सोमवार, 18 अप्रैल 2011

जग का मेला / ਜਗ ਦਾ ਮੇਲਾ


जग का मेला
बड़ा झमेला
मैं दुनिया में
चला अकेला

जो दुनिया में
चला अकेला
उसके पीछे
लगता मेला

जिसके पीछे
लगता मेला
वह दुनिया में
कहाँ अकेला

मूल रचना- पूर्णिमा वर्मन
ਜਗ ਦਾ ਮੇਲਾ
ਬੜਾ ਛਮੇਲਾ
ਮੈਂ ਦੁਨਿਯਾ ਵਿਚ
ਚਲਿਯਾ ਇੱਕਲਾ

ਜੋ ਦੁਨਿਯਾ ਵਿਚ
ਚਲਿਯਾ ਇੱਕਲਾ
ਉਸਦੇ ਪਿਛੇ
ਲਗਦਾ ਮੇਲਾ

ਜਿਸਦੇ ਪਿਛੇ
ਲਗਦਾ ਮੇਲਾ
ਓਹ ਦੁਨਿਯਾ ਵਿਚ
ਕਿਥੇ ਇੱਕਲਾ

पंजाबी रूपांतर- प्रीत अरोड़ा

1 टिप्पणी:

  1. प्रीत जी,

    अनुवादित कविता का व्‍यू ठीक से दिखाई नहीं दे रहा।

    नव्‍यवेश नवराही,
    जालंधर, पंजाब

    उत्तर देंहटाएं